मच्छर शाम को सिर के ऊपर क्यों चक्कर लगाते हैं?

मच्छर वातावरण में मौजूद CO2 यानि कार्बन डाइऑक्साइड कि उच्च स्तर का आसानी से पता लगा लेते हैं।

मच्छर mosquito

मच्छर दुनिया में सबसे खतरनाक कीटो में से एक है। यह मच्छर हमारी मानव जाती को विभिन्न प्रकार घातक बीमारियों जैसे डेंगू, जिका, मलेरिया, पीला बुखार आदि से नुक्सान पहुंचाता रहा है।

कई कारणों से मच्छर और अन्य प्रकार की मक्खियाँ किसी के सिर के चारों ओर चक्कर लगाती है।

इनमे से दो मुख्या कारण हैं

मादा मच्छरों का CO2 ( कार्बन डाइऑक्साइड ) की तरफ आकर्षण होना –

हम मनुष्य सांस लेने के लिए, ऑक्सीजन लेते हैं और बदले में कार्बन डाइऑक्साइड छोड़ते हैं। इस कार्बन डाइऑक्साइड के कारण मादा मच्छर हमारे सिर के ऊपर आ जाते है क्योंकि यह मादा मच्छर कार्बन डाइऑक्साइड की तरफ आकर्षित होती है।

नर मच्छरो के लिए प्रजनन स्थल –

जैसा कि आप सभी यह तो जानते ही होंगे कि नर मच्छर नहीं काटता है और केवल मादा मच्छर ही काटती है। हालांकि, नर मच्छर वातावरण में मौजूद CO2 यानि कार्बन डाइऑक्साइड कि उच्च स्तर का आसानी से पता लगा लेते हैं। नर मच्छर अक्सर प्रजनन के लिए झुंड बनाते हैं। इसके लिए नर मच्छर पर्यावरण में मौजूद एक प्रमुख/विशेष स्थान का चयन करते हैं, यह विशेष स्थान चाहे एक लंबा पेड़ हो, एक जानवर या एक व्यक्ति हो सकता है। आमतौर यह वस्तु निर्जीव होती अथवा एक स्थान पर स्थिर होती है। फिर यह नर मच्छर उस स्थान या व्यक्ति के ऊपर चक्कर मारने लगता है।

कभी-कभी इस झुंड में नर मच्छरों की संख्या कई हजारों तक हो सकती है।

मादा मच्छर ऐसे चक्कर मार रहे झुंडों को पहचानती हैं और वह उस झुंड में शामिल हो जाती हैं। यहां आती हुई मादा मच्छर को नर पकड़ लेता है और आमतौर पर जमीन पर या पत्तियों पर गिर जाते हैं और प्रजनन शुरू होता है।

आपने, आमतौर पानी के स्रोत के पास मच्छरों को ऐसा करते हुए देखा होगा क्योंकि यह मच्छर पानी के स्रोत के पास ही पैदा होते हैं। पानी के स्रोत के पास इन मच्छरो की निकटता इसलिए भी है क्योंकि नर मच्छरो कि आयु कम होती है और वयस्क नर की सबसे बड़ी प्राथमिक भूमिका प्रजनन की होती है।

गर्भाधान करने के बाद मादा मच्छर भोजन की तलाश में रक्त को खोजती, यह रक्त मादा मच्छर को अपने अंडे को विकसित करने में मददगार होता है।

क्या सभी मच्छर सिर के ऊपर चक्कर लगाते हैं?

नहीं, सभी मच्छर इस तरह का हवाई चक्कर, मनुष्य के सिर के ऊपर नहीं मारते हैं और ना ही किसी जानवर के सिर के आसपास ऐसा करते हैं। बांकी प्रकार के मच्छर पैरो/टखनो या अन्य खुले अंग के ऊपर ध्यान केंद्रित करने के लिए अधिक इच्छुक हो सकते हैं।

सिर पर चक्कर काट रहे झुण्ड मच्छर के नहीं हैं, तो किसके हैं?

यदि यह झुंड मच्छर के नहीं है, तो यह संभवत: मच्छर के समान दिखने वाले और ना-काटने वाले चिरोनोमिड मिडज ( Chironomid midges ) के हो सकते हैं। Chironomid midges बहुत आम हैं, यह अंटार्कटिका सहित पूरी दुनिया भर में फैले हुए हैं। इनकी 8,000 से अधिक वर्णित प्रजातियां हैं, और कई अन्य प्रजातियां अपनी वर्गीकरण की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

एयर कंडीशन में सोते समय मच्छर क्यों नहीं काटते?

अपने यह भी सोचा होगा कि सर्दियों में या एयर कंडीशन में मच्छर क्यों नहीं काटते हैं? आपको बता दे कि मच्छर गर्मी का पता आसानी से लगाते हैं। अगर आप अपनी त्वचा का तापमान कम करते हैं तो मच्छर को आपकी पहचान करना मुश्किल हो जाता है। दूसरा मच्छर ठंडे खून वाले होते हैं। उड़ने के लिए उन्हें पर्याप्त गर्म मौसम की आवश्यकता होती है। ठंड के समय में उनकी मांसपेशियों की कोशिकाएं ठीक से काम नहीं कर पाती हैं।

क्या आप जानते हैं कि गर्म, अधिक आर्द्र जलवायु में मच्छरो के जीवन चक्र की प्रक्रिया को तेज हो जाती है और इससे मच्छरों की संख्या में वृद्धि हो सकती है?

मुझे आशा है कि आपको “मच्छर शाम को सिर के ऊपर क्यों चक्कर लगाते हैं?” के कुछ रोचक तथ्य पर हमारा यह लेख पसंद आया होगा। आप अपनी प्रतिक्रिया हमें कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं ताकि हम तिकड़म पर और भी बेहेतर आर्टिकल भविष्य में ला सकें। तिकड़म की ओर से हमारी हमेशा यही कोशिश है कि हम लोगों तक दुनिया के दिलचस्प तथ्यों से अवगत करा सकें। यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो मेरा आपसे अनुरोध है कि कृपया इस लेख को अपने मित्रों के साथ शेयर करें। अब आप यहाँ टेक्नोलॉजी, सिनेमा और बचत से संबंधित लेख भी पढ़ सकते हैं।

Exit mobile version