दुनिया की 6 सबसे खतरनाक पक्षी

कैसोवरी पक्षी काफ़ी उत्सुक होते हैं, और वे समय-समय पर हमले करते रहते हैं।

कैसोवरी, शुतुरमुर्ग, एमु

आपने अपने घर के आस-पास रोज कई पक्षियों को देखा होगा। किन्तु आज हम कुछ ऐसे खतरनाक पक्षी के बारे में बताने जा रहे है जो की काफी हैरान करने वाले हैं यह पक्षी आपकी जान तक ले सकते हैं। आइये जाने कुछ ऐसे ही खतरनाक पक्षियों के बारे मै-

कैसोवरी पक्षी

कैसोवरी पक्षी

कैसोवरी पक्षी, कैसोवरीज़ सदस्य के एकमात्र पक्षी हैं, इस सदस्य के पक्षी में ईमू भी शामिल है। इनकि अहम तीन प्रजातिया (कुछ विशेषज्ञ इनको 6 प्रजातियो में बाटते हैं) हैं, जो उन के आवास में देखे जाते हैं। इनके मुख्य आवास ऑस्ट्रेलिया और न्यू गिनी के कुछ हिस्से हैं। यह कैसोवेरी पक्षी मनुष्यों को मारने के लिए जाना जाता है। ये पक्षी अपने पैरों के निचले हिस्से का इसतेमाल करता है। इन पक्षियों को 50 किमी प्रति घंटे (31 मील) के रफ़तार से झाड़ीयो के संकीर्ण रास्ते पर तेजी से घूमते हुए देखा जा सकता है।

कैसोवरी पक्षी काफ़ी उत्सुक होते हैं, और वे समय-समय पर हमले करते रहते हैं। लेकिन मनुष्यों पर हमले अपेक्षाकृत कम हि करते हैं। इनके हमलों से जो अत्यधिक होते हैं उनमें लोगों से भोजन की मांग करना शामिल होता है। हाल हि कि घटनाओं में से एक, जब ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में एक पर्यटक को एक कैसोवरी द्वारा लात मार दिया गया। पर्यटक की किस्मत अच्छी थी की वह ऊपर से पानी के अंदर जा गिरा, अन्यथा वह जीवीत नहीं बच पाता।

सबसे प्रसिद्ध हमलों में से एक 1926 की है: जब कुछ लड़के कैसोवरी का शिकार करने निकले तब उन लड़कों में से एक को कैसोवरी ने अपने लंबे पैर के अंगूठे के नाख़ून से लड़के के गले की नस को काट दिया जिससे उसकी मौत हो गयी। कैसोवरी को काफी खतरनाक पक्षी माना जाता है।

शुतुरमुर्ग

शुतुरमुर्ग (स्ट्रूथियो कैमलस)

शुतुरमुर्ग उड़ता नहीं है। यह केवल अफ्रीका के खुले इलाकों में पाए जाते हैं। यह सबसे बड़े जीवित पक्षी है। वयस्क नर 2.75 मीटर (लगभग 9 फीट) तक लंबे हो सकते हैं और इनकी ऊँचाई का लगभग आधा हिस्सा गर्दन होता है। इसका वजन 150 किलोग्राम से अधिक होता है। शुतुरमुर्गों व्यक्तिगत रूप से, जोड़े में, छोटे झुंड में देखे जाते है। शुतुरमुर्ग अपने मजबूत पैरों पर निर्भर होता है- इसके पैर की उंगली एक खुर के रूप में विकसित होती है जिसका इस्तेमाल ज्यादातर अपने दुश्मनों, मुख्य रूप से मनुष्यों और बड़े मांसाहारी से बचने के लिए करते है।

एक भयभीत शुतुरमुर्ग 72.5 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से दौड़ सकता है। एक अकेले शुतुरमुर्ग का एक लात शेर और अन्य बड़े शिकारियों को मारने में सक्षम होता है। इन पक्षियों को भड़काने वाले मनुष्यों की अधिकांश मौत इनके लात और स्लैश मरने से हुई हैं।

सबसे दिलचस्प शुतुरमुर्ग-हमले की कहानियों में से एक अमेरिकी संगीतकार जॉनी कैश शामिल थे। 1981 में जंगल में चलने के दौरान जॉनी कैश को कई बार आक्रामक शुतुरमुर्ग का सामना करना पड़ा। एक बार तो शुतुरमुर्ग की एक लात ने जॉनी कैश को 6 फूट तक ऊपर उड़ा दिया। कैश ने बताया कि उनके पेट में जोर का झटका लगा अगर उन्होंने मजबूत बेल्ट बकसुआ नहीं पहना होता, तो शुतुरमुर्ग के पैर के पंजे ने उसके पेट को काट दिया होता और उन्हें मार दिया होता।

एमु

एमु पक्षी

एमु पक्षी जिसे कई अन्य नामो से जाना जाता है जैसे की -ड्रोमाइअस या ड्रोमीसियस या नोवाहेलांडिया।

एक आम एमु अपने रिश्तेदार कैसोवरी की तरह कठोर और लंबे पैर वाला होता है। एमु लगभग 50 किमी प्रति घंटे की गति से भाग / दौड़ सकता है। अगर वह अकेले हो और कोई खतरा महसूस हो तो वह अपने बड़े पैर के अंगूठे के साथ लातो का इस्तेमाल मारने के लिए करते हैं। कैसोवरी और शुतुरमुर्गों की तरह, एमु के पैर के पंजे सही परिस्थितियों में जानवरों को घायल करने में सक्षम हैं।

हालाँकि, एमु पक्षी द्वारा मानवों पर कई बार हमले हुए हैं। एमू के हमलों में, ऑस्ट्रेलिया के जंगली-जानवरों के पार्कों में हमलो की रिपोर्ट का ढेर पड़ा हुआ है इसमें 1000 से ज्यादा हमलो की सूची है। दुनिया भर में इमू के हमले देखने को मिले हैं। अकेले 2009 में 100 से अधिक दुर्घट्नाये एमु के हमले के कारण घटित हुए हैं।

लैमर्जिएर

लैमर्जिएर (जिपेटस बरबैटस)

लैमर्जिएर, जिसे दाढ़ी वाला गिद्ध भी कहा जाता है। यह Accipitridae परिवार के बड़े गरुड़ गिद्ध हैं। ये पक्षी अक्सर लगभग 3 मीटर के पंखों के साथ 1 मीटर से अधिक की लंबाई तक होते हैं। लैमर्जिएर, मध्य एशिया और पूर्वी अफ्रीका से लेकर स्पेन तक के पर्वतीय क्षेत्रों में निवास करते हैं। जादातर यह सड़े-गले भोजन और विशेष रूप से हड्डियों का भोजन करते हैं।

हड्डीयों को खाने के लिए वह हड्डी को, 80 मीटर (260 फीट) की ऊँचाई से नीचे की समतल चट्टानों पर गिराते हैं। जिस कारण इन हड्डियों मै दरार आ जाती है और पक्षियों को भोजन का आनंद प्राप्त होता है।

इनके द्वारा मनुष्यों पर हमले या तो दुर्लभ हैं या फिर किसी किस्से में ही सुनने को मिलता है। एक कहानी के मुताबिक, एथेनियन नाटककार, एशेलियस की मौत गेला (सिसिली के दक्षिणी तट पर) में हुई थी।  जब इस लैमर्जिएर पक्षी ने नाटककार के गंजे सर को पत्थर समझ के कछुए को उस पर गिरा दिया था, जिससे उसकी मौत हो गयी। लेकिन उनकी अजीब मौत का वर्णन बाद में हास्य लेखक द्वारा मजाकिया रूप में किया गया।

बुबो वर्जिनियन

महान सींग वाला उल्लू (बुबो वर्जिनियन) पक्षी

सभी प्रकार के उल्लू लोगों पर हमला करने के लिए जाने जाते हैं। उल्लू के हमलों से होने वाली मौतें बहुत कम होती हैं। विशेष रूप से महान सींग वाले उल्लू (बुबो वर्जिनिया) और वर्जित उल्लू (स्ट्रीक वेरिया) ने हाई-प्रोफाइल हमलों से लोगो का ध्यान आकर्षित किया है।

2012 में सिएटल-क्षेत्र के एक पार्क में कई लोगों ने महान सींग वाले उल्लू द्वारा हमला किए जाने की सूचना दी। 2015 में ओरेगॉन के सलेम में एक ऐसा ही हमला हुआ था, जब एक बड़े सींग वाले उल्लू ने जॉगर्स की खोपड़ी पर प्रहार किया, जो बाद में भाग गया। महान सींग वाले उल्लू शक्तिशाली शिकारी होते हैं जो अक्सर 2 फीट (60 सेमी) से अधिक लंबाई तक बढ़ते हैं, पंखों के साथ जो अक्सर 200 सेमी (80 इंच) तक पहुंचते हैं। ये उल्लू पूरे अमेरिका भर में पाए जाते हैं।

यह आमतौर पर छोटे कृन्तकों और पक्षियों को खाते हैं लेकिन बड़े शिकार को अंजाम देने के लिए भी जाने जाते हैं। महान सींग वाले उल्लू, अधिकांश उल्लू प्रजातियों की तरह, हमला करने के लिए चेहरे और सिर पर निशाना बनाते हैं।

बार्ड उल्लू (Strix varia) पक्षी

बार्ड उल्लू (Strix varia) पक्षी

बार्ड उल्लू, यह पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका और दक्षिण-पूर्व कनाडा में पाये जाते हैं। जोकि बड़े सींग वाले उल्लू से छोटे होते हैं। इनका वजन 630 और 800 ग्राम के बीच पाया जाता हैं और इनका पंख लगभग 110 सेमी (43 इंच) बड़ा होता है। आये दिन टेक्सास से ब्रिटिश कोलंबिया तक पैदल जाने वाले यात्रियों पर उल्लू द्वारा हमले की सूचना पायी जाती है।

हाई-प्रोफाइल नॉर्थ कैरोलिना मै एक बार्ड उल्लू की विचित्र हत्याकांड में भूमिका पायी गयी है । 2003 में एक व्यक्ति को अपनी दूसरी पत्नी की हत्या का दोषी ठहराया गया था। 2011 में, व्यक्ति कई साल जेल की सजा काट चुका था, उसके बाद एक न्यायाधीश ने हत्या के हथियार से संबंधित फोरेंसिक साक्ष्य को बाहर निकलवाया।

इसके बाद जब पीड़ित की खोपड़ी, चेहरे और कलाई पर घावों के फोरेंसिक जांच में बार्ड उल्लू का खुलासा हुआ। इसके बाद पीड़ित की मौत के लिए बार्ड उल्लू को दोषी ठहराया गया था।

मुझे आशा है कि आपको “दुनिया की 6 सबसे खतरनाक पक्षी” के कुछ रोचक तथ्य पर हमारा यह लेख पसंद आया होगा। आप अपनी प्रतिक्रिया हमें कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं ताकि हम तिकड़म पर और भी बेहेतर आर्टिकल भविष्य में ला सकें। तिकड़म की ओर से हमारी हमेशा यही कोशिश है कि हम लोगों तक दुनिया के दिलचस्प तथ्यों से अवगत करा सकें। यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो मेरा आपसे अनुरोध है कि कृपया इस लेख को अपने मित्रों के साथ शेयर करें। अब आप यहाँ टेक्नोलॉजीसिनेमा और बचत से संबंधित लेख भी पढ़ सकते हैं।

Exit mobile version